कारण केंद्रीय स्नायु संस्थान में घातक रूप में विकार उत्पन्न होने के कारण मरीज कभी-कभी उदास घबराया हुआ और रंजीदा रहता है और मरीज को इस दशा मैं जोश गुस्सा तथा उलझन भी होती है मरीज ऐसी दशा में कुछ भी कर सकता है जिसके लिए निम्नलिखित दवाएं अत्यंत उपयोगी है।

दवा-उश शिफा- जुनून, उच्च रक्तचाप गर्भाशय में विकार और मिर्गी के अत्यंत लाभदायक दवा है।

सेवन विधि- अभी से 1 गोली सोते समय पानी से सेवन करें।

शरबत अहमद शाही- माली खोलिया (मनो विभ्रम) और मस्तिष्क संबंधी रोगों में लाभदायक है।

सेवन विधि- 20 मिली यह शरबत अर्क गांवजबान 125 मिली के साथ ले।

ये भी पढ़े:-खदर “शरीर का सुन्न हो जाना”[Neuritis]

कुर्स राहत- जुनून ,मिर्गी ,गर्भाशय विकार, अल्पनिद्रा, अनिद्रा इत्यादि में लाभदायक है।

सेवन विधि- 2 गोलियां सुबह या शाम पानी के साथ सेवन करें।

माजून निजाह- माली खोलिया (मनोविभ्रम) तथा कफज संबंधित बीमारियों में अत्यंत लाभदायक है।

सेवन विधि- 5 ग्राम से 10 ग्राम रात को पानी के साथ ले।

*चिकित्सक के परामर्श के बिना उपरोक्त औषधियों का सेवन ना करें।

ये भी पढ़े:-अर्क-उन-निसां “गृधसि”[Sciatica]

ये भी पढ़े:-फालिज, लकवा और राशा बीमारी [Paralysis,Facial paralysis & Chorea]

ये भी पढ़े:-सिर दर्द चक्कर व आधीसीसी का दर्द का कारण जानिए क्या है -Headache,Migraine

9Shares
http://health.ktnewslive.com/wp-content/uploads/2018/03/stress_psychosis-kthealth-1.jpghttp://health.ktnewslive.com/wp-content/uploads/2018/03/stress_psychosis-kthealth-1-150x150.jpgAdminBrain & Nervespsychosisकारण केंद्रीय स्नायु संस्थान में घातक रूप में विकार उत्पन्न होने के कारण मरीज कभी-कभी उदास घबराया हुआ और रंजीदा रहता है और मरीज को इस दशा मैं जोश गुस्सा तथा उलझन भी होती है मरीज ऐसी दशा में कुछ भी कर सकता है जिसके लिए निम्नलिखित दवाएं अत्यंत...ktnl