कारण- सियाटिका नर्व पर चोट लगने ,रान के ऊपरी भाग या कूल्हे पर चोट लगना, कमर में भारी झटका लगना ,रीढ़ की हड्डी का खिसक जाना या टेढ़ा हो जाना और इसके बीच से निकलने वाली नाड़ियों पर दबाव पड़ने की स्थिति में सियाटिक नर्व और इससे निकलने वाली शाखाओं के विभाजन के स्थान पर दर्द पैदा होता है और रोगी का चलना फिरना खड़ा होना अत्यंत कठिन हो जाता है ऐसी अवस्था में निम्नलिखित औषधियों का सेवन अत्यंत उपयोगी है।

ये भी पढ़े:- फालिज, लकवा और राशा बीमारी [Paralysis,Facial paralysis & Chorea]

हब्बे असगंद- यह गोलियां शयाटिका जोड़ों के दर्द और कमर में दर्द में लाभदायक है बलगमी तथा वायु संबंधित विकारों में भी लाभदायक है|

सेवन विधि- एक से दो गोलियां सुबह व शाम पानी से सेवन करें।

हब्बे सुरंजान- इन गोलियों का उपयोग शयाटिक और जोड़ों के दर्द में लाभदायक है।

सेवन विधि- एक से दो गोली सुबह शाम पानी से ले।

*चिकित्सक के परामर्श के बिना उपरोक्त औषधियों का सेवन ना करें।

ये भी पढ़े:- सिर दर्द चक्कर व आधीसीसी का दर्द का कारण जानिए क्या है -Headache,Migraine

ये भी पढ़े:- उच्च रक्तचाप ब्लड प्रेशर का बढ़ना|

5Shares
http://health.ktnewslive.com/wp-content/uploads/2018/03/sciatica-kthealth.jpghttp://health.ktnewslive.com/wp-content/uploads/2018/03/sciatica-kthealth-150x150.jpgAdminBrain & Nervessciaticaकारण- सियाटिका नर्व पर चोट लगने ,रान के ऊपरी भाग या कूल्हे पर चोट लगना, कमर में भारी झटका लगना ,रीढ़ की हड्डी का खिसक जाना या टेढ़ा हो जाना और इसके बीच से निकलने वाली नाड़ियों पर दबाव पड़ने की स्थिति में सियाटिक नर्व और इससे निकलने वाली...ktnl